There is a post attributed to Senior Journalist Ravish Kumar going viral on various Social media platform containing a  lengthy message which read :

"नई दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार ने मुस्लिम भाइयों से भावुक अपील की है। अपनी अपील में उन्होंने कहा कि आप लोग भाजपा और आरएसएस की आलोचना करना बंद कर दें। आपका विरोध करना ही उनकी ताक़त है। वैसे भी जम्मू-कश्मीर को छोड़कर न तो तुम्हें कहीं का मुख्यमंत्री बनना है और न ही प्रधानमंत्री। जिनको सत्ता लेनी है, वो अपने आप आरएसएस, भाजपा की काट कर लेंगे।
आपके विरोध करने की वजह से ही भाजपा 18 फीसदी मुस्लिमों का भय दिखाकर 80 फीसदी हिन्दुओं का वोट अपने पाले में लाने में सफल रहती है और पूरे खेल के संचालक तो असल में 3 फीसदी ही हैं। उन्होंने कहा कि आपको जिस किसी भी पार्टी को वोट देना है दो, जिसका समर्थन करना है करो पर भूलकर भी भाजपा, आरएसएस और मोदी का विरोध मत करो।
भूल जाओ की आरएसएस नाम का कोई संगठन भी है।
भूल जाओ की भाजपा कोई पार्टी है। भूल जाओ कि मोदी कोई नेता है। आपकी यही दशा रही तो कुछ साल में आप राजनीतिक तौर पर अछूत बना दिए जाओगे, फिर न तो आपको कांग्रेस पूछेगी, न भाजपा, न सपा और न बसपा। जिस मीम और ओवैसी का आप अंध समर्थन कर रहे हो उसको चुनाव में हिस्सा तभी तक लेने दिया जायेगा जब तक की भाजपा को उनके चुनाव लड़ने से फायदा हो रहा है।
जिस दिन भाजपा को लगेगा कि अब इनके चुनाव लड़ने से उसे नुकसान हो रहा है उसी दिन मीम पर पाबंदी लगा दी जायेगी जैसे की पहले 30-40 साल तक पाबन्दी लगी थी। तुम केवल आधुनिक, वैज्ञानिक शिक्षा पर ध्यान दो, इतने अंक लाओ कि बिना आरक्षण के ही तुम सरकारी नौकरियां हासिल कर सको।
आजादी से पहले भारत में मुसलमानों की आबादी 35 फीसदी थी और 35 फीसदी सरकारी नौकरियों पर मुसलमानों का कब्जा था, उस समय यह आरक्षण जैसी कोई व्यवस्था भी नही थी। जो उस मुकाम तक पहुंचते थे वो अपनी काबिलियत के दम पर ही पहुंचते थे और जो आप दीनी इदारों में जकात, खैरात का पैसा देते हैं बेहतर होगा कि ऐसे इदारों में भी जकात, खैरात का पैसा दो जो आपकी शिक्षा और रोजगार के लिए काम करे। यदि ऐसे इदारे नही हैं तो बनाइये।
याद रखिये इस समय कम्पटीशन का जमाना है और आप हर क्षेत्र में पिछड़ रहे हैं, किसी भी तरह की सरकारी मदद का भरोसा छोड़ दीजिये। जो करना है आप अपने दम पर कीजिये। बाकी ख़ुदा मालिक है।"

Translation:

New Delhi.Senior Journalist Ravish Kumar has made an emotional appeal to the muslim brothers. In his appeal he has asked them to should stop criticizing BJP and RSS. Your criticism is their strength.Apart from J&K, you have no chance of becoming Chief Minister or Prime Minister. Those who want power will contest against BJP and RSS.                                                                                                  

Because of your opposition, BJP is successfully able to project fear of 18% of Muslims and consolidate 80% of Hindus, and the controller of the game is actually only 3%. He has said, support any political party you want, vote for whoever you want but dont oppose BJP, RSS or Modi even by mistake.

Forget that there is an organization called RSS. Forget there is a party called BJP. Forget there is a leader named Narendra Modi. If this is the state, in a few years, you will become political untouchables. Then, neither Congress nor BJP nor SP nor BJP will come to you. AIMIM and Owaisi, who you blindly support, will take part in elections only so long as they benefirt the BJP.    

The day BJP feels that they are causing political losses to the BJP, that day there will be a ban on AIMIM, like earlier when there was a ban for 30-40 years. You focus on modern, scientific education, get such marks that you may secure govt jobs without reservation.    

Before Independence, proportion of Muslims to total population was 35% and 35% govt jobs were in the hands of Muslims; at that time there was no provision of reservation. The zakat and khairat that you offer at gatherings of the poor, also offer the same at gatherings in which education and employment are prioritised. If there are no such gatherings, then work toward them.

Remember, this is an era of competition and you are lagging in every sphere, forget help from the govt. Whatever you wish to do, do it of your own accord. God is the master.

This message is widely shared by many users on Facebook and Twitter.

It can be seen from the above video that how viral this is on facebook.

Even when we searched for the news we found that there is an article published by Siasat Daily on March 2018.

The publishing date of the article also means that the news is old and is still in circulation.

The report published by the Status Daily had stated that Ravish Kumar had made this statement at a programme.Although it is not mentioned that what was the programme and where.

FACT CHECK

After going through Ravish Kumar's official facebook account we found that on March 20 2018 he posted a message clarifying that the viral statement was not given by him.

facebook

When we look at the two dates , we found that The Siasat Daily posted article even after it was clarified by Ravish Kumar himself .

It is clear that the statement was not given by Ravish Kumar .

Know the Truth..